अक्टूबर क्रांति के शताब्दि वर्ष में

अक्टूबर क्रांति के शताब्दि वर्ष में

आज की बात करने के लिये कल का जिक्र भी जरूरी है। शताब्दि भर पहले अल्बर्ट रीस विलियम ने लिखा था- ‘‘प्रतिक्रियावाद ने अपना मुंह खोल दिया था और वह उद्धत था।‘‘ यह 1917 के अक्टूबर क्रांति से ठीक पहले ...

Read More »

शैतान का दिमाग खाली नहीं

शैतान का दिमाग खाली नहीं

‘खाली घर शैतान का डेरा।‘ सुनते और पढ़ते हुए हम बड़े हुए हैं। क कहरा के अक्षर ज्ञान से लेकर विश्व विद्यालयों तक। कठपुतली बनने की सलाह हमें किसी ने नहीं दी। कृष्ण हों या कौटिल्य, कणांद हों या चार्वाक, ...

Read More »

बी.एच.यू. परिसर की सुरक्षा और निगरानियों का जाल

बी.एच.यू. परिसर की सुरक्षा और निगरानियों का जाल

बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के उपकुलपति गिरीश चन्द्र त्रिपाठी लम्बी छुट्टि पर गये – व्यक्तिगत कारणों से। व्यक्तिगत कारण उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और जहां से वो अपनी सोच और समझ लाते हैं, वहीं से बताया गया। छात्राओं ...

Read More »

गांधी की औकात घट रही है

गांधी की औकात घट रही है

कभी आजादी की लडाई और आजादी के प्रतीक रहे गांधी जी की औकात मोदी सरकार के ‘स्वच्छता अभियान‘ में चश्में की हो गयी है। बड़े ही तरीके से उन्हें मारा जा रहा है। सोच और व्यक्तित्व के स्तर पर उन्हें ...

Read More »

बीएचयू – मुद्दे छोटे सवाल बड़े हैं

बीएचयू – मुद्दे छोटे सवाल बड़े हैं

काशी हिंदू विश्व विद्यालय -बीएचयू- का मुख्य द्वार खुलता है और बंद हो जाता है। लोग जानना चाहते हैं- यह हो क्या रहा है? स्थितियां सामान्य नहीं हैं। पुलिस, पीएसी की छावनियां स्थायी हो रही हैं। मुद्दे छोटे और सवाल ...

Read More »

हमारे पास न जेब होगी, न देश होगा

हमारे पास न जेब होगी, न देश होगा

2014 के आम चुनाव और उसके परिणाम को हमने कॉरपोरेट जगत के द्वारा सत्ता के अपहरण के नजरिये से ही देखा है। हम यह मानते रहे हैं, कि यह वैधानिक तख्तापलट है, जिसमें वॉलस्ट्रीट की निजी कम्पनियां, बैंक और देशी ...

Read More »

स्थगित लोकतंत्र

स्थगित लोकतंत्र

‘‘भारतीय राजनीति में क्या मोदी का कोई विकल्प है?‘‘ यह सवाल विपक्ष की ओर उछाला जाता है, और कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी को नरेंद्र मोदी के सामने खड़ा किया जाता है, यह प्रमाणित करने के लिये कि वे कमजोर ...

Read More »

क्या लोकतंत्र में अल्पसंख्यकों की देखभाल ऐसे की जाती है?

क्या लोकतंत्र में अल्पसंख्यकों की देखभाल ऐसे की जाती है?

हामिल अंसारी ने कोई गलत बात नहीं की कि ‘‘लोकतंत्र की पहचान अल्पसंख्यकों को मिली सुरक्षा से होती है। देश के मुसलमानों में डर, बेचैनी और असुरक्षा की भावना है।‘‘….. कि ‘‘विपक्ष को यदि सरकार की नीतियों की आलोचना का ...

Read More »

मोदी जी हंस रहे हैं

मोदी जी हंस रहे हैं

यह बात समझ से बाहर है अब तक सरकारें बोलती हैं झूठ हम समझते हैं सच क्यों….? क्यों का जवाब है हमारे सामने मगर हम उस जवाब से मिलना नहीं चाहते। मिल गया तो समझते नहीं। समझ गये तो, ‘‘कोये ...

Read More »

लोकतंत्र यदि भारत है तो कोई खास बात नहीं – 2

लोकतंत्र यदि भारत है तो कोई खास बात नहीं – 2

प्रतिक्रियावादी ताकतें इस बात को अच्छी तरह जानती हैं, कि अंततः उनका वास्ता जनअसंतोष से ही पड़ेगा। आम जनता से लड़ाई उसे लड़नी होगी। ऐसी सरकारें यह भी जानती हैं, कि आम जनता का भरोसा जब तक बना रहेगा, सरकारें ...

Read More »
Scroll To Top