भारत को अपनी नीतियां साफ करनी होंगी

भारत को अपनी नीतियां साफ करनी होंगी

कारोबार में सौदेबाजी तो होती ही है। ऐसे ही रिश्तों के नये दौर की शुरूआत हो गयी है, जिसमें युद्ध और युद्ध की धमकी भी शामिल है। सिक्कीम-दोकलम पठार को लेकर भारत और चीन के बीच का तनाव बढ़ गया ...

Read More »

भारत-चीन रिश्ते को संभालने की जरूरत है

भारत-चीन रिश्ते को संभालने की जरूरत है

चीन के विरूद्ध आप खड़े हो सकते हैं। सवाल यह है, कि उससे हमें हासिल क्या होगा? हम भारत सरकार की नीतियों की ही बात करें, तो देश की मोदी सरकार भारत को एक ब्राण्ड और बाजारवादी अर्थव्यवस्था के जरिये ...

Read More »

जीएसटी – एक राष्ट्र, एक कर, एक बाजार

जीएसटी – एक राष्ट्र, एक कर, एक बाजार

मोदी जो दिखाते हैं, उसके पीछे उससे बड़ा खतरा छुपाते हैं। अभी हम जीएसटी देख रहे हैं। ‘राष्ट्र के इतिहास का सबसे बड़ा कर सुधार‘ का जश्न देख रहे हैं। ‘एक राष्ट्र, एक कर, एक बाजार का सपना देख रहे ...

Read More »

ठगी की उल्टी कथा

ठगी की उल्टी कथा

एक कथा- एक ब्राम्हण को बछिया दान में मिली। जिसे लेकर दूसरे गावं वह अपने घर को चला। रास्ते में जंगल पड़ता था। तीन ठगों की नजर उस पर पड़ी। उन्होंने बछिया को बकरी बता कर ब्राम्हण को ठग लिया। ...

Read More »

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 4

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 4

भारत में किसी भी आंदोलन और मांग का भविष्य अनिश्चित है, या यूं कह लीजिये की वो धोखा खा जायेंगी। उनकी ताकतें बंट जायेंगी। बांट दी जायेंगी। धोखा देने के लिये सिर्फ सरकारें ही नहीं हैं, वो वित्तीय ताकतें भी ...

Read More »

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 3

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 3

आईये, गोरखालैण्ड की बातें करें। अलग झारखण्ड राज्य के मांग की तरह ही अलग ‘गोरखा राज्य‘ की मांग सौ साल से पुरानी हैं आज झारखण्ड तो अलग राज्य है, किंतु 1907 में ‘मार्ले-मिंटो सुधार‘ के लिये ब्रिटिश आयोग के सामने ...

Read More »

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 2

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 2

हम कश्मीर की बात करें। उस खूबसूरत घाटी की बातें करें, जिसके जन्नत होने का यकीन टूट गया है। मानी हुई बात है, कि दो मुल्क की सियासत का खामियाजा कश्मीर भुगत रहा है। इतिहास की जानकारी है, जहां ब्रिटिश ...

Read More »

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 1

सरकारें वह नहीं जो दिखती हैं – 1

आज किसी भी आंदोलन के पक्ष में या विपक्ष में खड़ा होना, आम आदमी की मुश्किलें हैं, क्योंकि जो दिख रहा है, या जो दिखाया जा रहा है, वह सही है या गलत? यह तय नहीं हो पाता। अजीब सी ...

Read More »

वाम दलों की पीठ

वाम दलों की पीठ

देश में प्रतिक्रियावादी ताकतों ने निर्णायक बढ़त बना ली है। केंद्र में मोदी की कॉरपोरेट सरकार है, और राज्यों में भी भाजपा की सरकारें बनती जा रही हैं। राजनीतिक रूप से भाजपा ऐसी स्थितियां बना रही है, कि आने वाले ...

Read More »

अवशेषों का खतरा

अवशेषों का खतरा

प्रतिक्रियावादी ताकतें किसी की नहीं होतीं, जिनका वो उपयोग करती हैं, उनकी भी नहीं। सत्तारूढ़ होने के बाद तोड़-फोड़ ही उनके काल की विशेषता होती है। इतिहास से लेकर आने वाले कल को वो ऐसे अवशेषों से भर देती हैं, ...

Read More »
Scroll To Top