Home / सवाल-दर-सवाल

Category Archives: सवाल-दर-सवाल

Feed Subscription

क्या लोकतंत्र में अल्पसंख्यकों की देखभाल ऐसे की जाती है?

क्या लोकतंत्र में अल्पसंख्यकों की देखभाल ऐसे की जाती है?

हामिल अंसारी ने कोई गलत बात नहीं की कि ‘‘लोकतंत्र की पहचान अल्पसंख्यकों को मिली सुरक्षा से होती है। देश के मुसलमानों में डर, बेचैनी और असुरक्षा की भावना है।‘‘….. कि ‘‘विपक्ष को यदि सरकार की नीतियों की आलोचना का ...

Read More »

अवशेषों का खतरा

अवशेषों का खतरा

प्रतिक्रियावादी ताकतें किसी की नहीं होतीं, जिनका वो उपयोग करती हैं, उनकी भी नहीं। सत्तारूढ़ होने के बाद तोड़-फोड़ ही उनके काल की विशेषता होती है। इतिहास से लेकर आने वाले कल को वो ऐसे अवशेषों से भर देती हैं, ...

Read More »

मोदी सरकार की करिश्माई उपलब्धि – हम गदहे हैं!

मोदी सरकार की करिश्माई उपलब्धि – हम गदहे हैं!

देश में भांट, गवईया और कथावाचकों की पूछ बढ़ गयी है। वर्ष हिंदू हो गये हैं। देवी-देवता जागृत हो गये हैं। गाय माता हो गयी है। स्वयं सेवक गणों की पहुंच बढ गयी है। राम मर्यादा पुरूषोत्तम नहीं रहे। अशोक ...

Read More »

बिना लाल बत्ति की सरकार

बिना लाल बत्ति की सरकार

लाल बत्ती के दिन लद गये। यह अच्छी बात है, मगर इसमें ऐतिहासिक क्या है? क्या आप बता सकने के लायक हैं? कैबिनेट ने निर्णय लिया, प्रस्ताव पीएम साहब का था। बत्तियां गुल हो गयीं। तमाम भेंड़ दिखा-दिखा कर बत्तियां ...

Read More »

नारे मुंह चिढ़ा रहे हैं!

नारे मुंह चिढ़ा रहे हैं!

होली से एक दिन पहले। शहर के मॉल, पेट्रोल पम्प, शोरूम और ऐसी बड़ी दुकानें, जिनमें कांच और शीशे लगे हैं उन पर मोटे कपड़े तान दिये गये, पॉलीथिन और गत्ते लगा दिये गये। उनके साइन बोर्ड को भी ढ़ंक ...

Read More »

पार्टी की तरह दिखते नेता

पार्टी की तरह दिखते नेता

राजनीतिक दल की तरह दिखते नेता यदि मौजूदा उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव की विशेषता है, तो भारतीय लोकतंत्र के लिये यह घटित होती दुर्घटना भी है। जिसकी शुरूआत भले ही राष्ट्रीय कांग्रेस के विभाजन से हुई, मगर जिसका चरम ...

Read More »

चिनम्मा कोई सबक नहीं

चिनम्मा कोई सबक नहीं

चिनम्मा कोई सबक नहीं। राजनीतिक गलियारे में भ्रष्टाचार की परम्परा बड़ी समृद्ध है। तमिलनाडु की राजनीति में वी. के. शशिकला सत्ता के गलियारे में ही रह गयी, उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के बाद सत्ता तक पहुंचने की कोशिशें जरूर की, ...

Read More »

राजनीतिक दलों की झांसा-पट्टी

राजनीतिक दलों की झांसा-पट्टी

एक नंगा दूसरे नंगे को कहता है- ‘‘भाई तू नंगा है।’’ और लोगों को उसे दिखाता है। नंगई इतनी बढ़ गयी है कि लोग मान लेते हैं- ‘‘हमाम में सभी नंगे हैं।’’ जिनके बदन पर कपड़े हैं, आज-कल शर्म उन्हें ...

Read More »

आरोपों से घिरी ठप्प व्यवस्था

आरोपों से घिरी ठप्प व्यवस्था

संसद भवन में बुलायी गयी विशेष प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा- ‘‘मेरे पास पीएम के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं। इसे मैं लोकसभा में रखना चाहता हूं, लेकिन मुझे रोका जा रहा है। प्रधानमंत्री घबराये हुए ...

Read More »

देशभक्ति और राष्ट्रवाद की बढ़ती मांग

देशभक्ति और राष्ट्रवाद की बढ़ती मांग

‘देशभक्ति’ और ‘राष्ट्रवाद’ की मांग अक्सर वे सरकारें करती हैं, जिनके पास अपनी पसंद का कपड़ा होता है, उन्हें पहनाने के लिये। जब से केन्द्र में मोदी की सरकार बनी है, तब से खास किस्म की देशभक्ति और खास किस्म ...

Read More »
Scroll To Top