Home / राष्ट्रीय परिदृश्य (page 4)

Category Archives: राष्ट्रीय परिदृश्य

Feed Subscription

भारत का अमेरिकी खेमें में दाखिला

भारत का अमेरिकी खेमें में दाखिला

‘‘पंगू विदेश नीति से छुटकारा मिला है।‘‘ सुनते हैं। यह भी सुनने को मिल रहा है, कि ‘‘नरेंद्र मोदी ने भारत की शाख वैश्विक मंच पर बढ़ा दी है।‘‘ शायद सही है। मीडिया यही समझा रही हैं। मगर पंगू के ...

Read More »

कश्मीर – वर्दी और वार्ता की मेज के बीच

कश्मीर – वर्दी और वार्ता की मेज के बीच

बुरहान वानी का मामला कुछ ऐसे तूल पकड़ेगा, कि कश्मीर से दिल्ली ही खारिज होता जायेगा, इस बात की खबर किसी को नहीं थी, न केंद्र की मोदी सरकार को ना ही पीडीपी और भाजपा की महबूबा सरकार को। दोनों ...

Read More »

चुनाव अपने ब्राॅण्ड की मार्केटिंग

चुनाव अपने ब्राॅण्ड की मार्केटिंग

खबर ताजा है- उत्तर प्रदेश में कांग्रेस है। यह भी खबर है- कि कांग्रेस मुक्त भारत के बयान से भाजपा पलट गयी है। वजह है, और दोनों ही वजह जायज है। सोनिया गांधी का रोड-शो सफल रहा। उम्मीद से ज्यादा ...

Read More »

काठ के पुतला को महान समझने की भूल

काठ के पुतला को महान समझने की भूल

देश की सरकार सिर्फ चुनाव लड़ रही है। उसके सिर पर मिशन-2017 और मिशन 2019 का भूत सवार है। यह भूत उसने खुद ही सवार किया है। भाजपा ने जो जीत 2014 के लोकसभ चुनाव में हासिल की, उसे लगता ...

Read More »

कटघरे में आतंकी नहीं, सरकारें हैं

कटघरे में आतंकी नहीं, सरकारें हैं

कश्मीर जल रहा है, और इस बात की सही खबर हिन्दुस्तान के आम लोगों को नहीं है। सही खबरें उन तक पहुंच ही नहीं रही हैं। खबरिया चैनल से लेकर रोज निकलने वाले अखबार न जाने क्या कर रहे हैं? ...

Read More »

एफडीआई – ताबूत पर आखिरी कील

एफडीआई – ताबूत पर आखिरी कील

जिस घर की खिड़कियां पहले से खुली थीं, उस घर का अब, दरवाजा भी खुल गया है, भारत एक खुला देश है। जिन्होंने नरेंद्र मोदी की सरकार बनवायी, उन्होंने एक निर्णायक मुकाम हासिल कर लिया है। केंद्र की मोदी सरकार ...

Read More »

अमेरिकी खेमें में घुसने की जल्दबाजी

अमेरिकी खेमें में घुसने की जल्दबाजी

मोदी जी को अमेरिकी खेमें में घुसने की बड़ी जल्दी है। दो साल में चार बार ओबामा से मिलने, हाथ मिलाने, गले लगाने और हम आपके हैं, कि कसमें खाने का रिकार्ड बनाया। वो जानते हैं, कि अमेकिरा से उनकी ...

Read More »

मिशन 2017 – चुनाव में माहिर दल

मिशन 2017 – चुनाव में माहिर दल

भाजपा चुनावों के जरिये सत्ता पर एकाधिकार चाहती है। उसके दावे बड़े हैं। उसके इरादे पक्के हैं। उसने उन तकतों से तालमेल भी बैठा लिया है, जो सरकारें बनाती हैं। और जिनके नाम से सरकारें बनायी जाती हैं, उस आम ...

Read More »

‘कांग्रेस मुक्त भारत‘ का मतलब

‘कांग्रेस मुक्त भारत‘ का मतलब

‘‘कांग्रेस मुक्त भारत‘‘ का नारा भाजपा खड़ा कर चुकी है। केंद्र की मोदी सरकार की हरकतें भी ऐसी ही हैं। वह अपने राजनीतिक एकाधिकार के लिये कांग्रेस को ठिकाने लगा देना चाहती है। शायद किसी भी राजनीतिक दल और उसकी ...

Read More »

बीएचयू गेट पर जेएनयू, जय भीम, लाल सलाम

बीएचयू गेट पर जेएनयू, जय भीम, लाल सलाम

कुछ लोगों ने मान लिया है, कि ‘‘यदि हम दूसरों को नहीं बोलने देंगे तो हमारी बात सुनी जायेगी।‘‘ मूर्खों के सींग नहीं होते। 7 जून 2016 को काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के सिंह द्वार और लंका चैराहे पर यह नजारा ...

Read More »
Scroll To Top