Home / विश्व परिदृश्य (page 4)

Category Archives: विश्व परिदृश्य

Feed Subscription

ब्राजील में वैधानिक तख्तापलट-1

ब्राजील में वैधानिक तख्तापलट-1

ब्राजील में वैधानिक तख्तापलट की कोशिश आंशिक रूप से सफल हो चुकी है। राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ के विरूद्ध महाभियोग की कार्यवाही को सीनेट की मंजूरी मिलने के साथ ही, उन्हें 6 महीने के लिये अपने पद से अपदस्थ कर दिया ...

Read More »

सउदी अरब और अमेरिका के बीच बढ़ता तनाव

सउदी अरब और अमेरिका के बीच बढ़ता तनाव

17 मई को, अमेरिकी कांग्रेस के उच्च सदन -सीनेट- ने ‘जस्टिस अगेंस्ट स्पॉन्सर ऑफ टेरेरिज्म एक्ट‘ को बिना किसी विरोध के पारित कर दिया। जिसे अब कांग्रेस के निम्न सदन -हाउस ऑफ रिप्रसेन्टेटिव- में भेजा जायेगा। माना यही जा रहा ...

Read More »

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 3

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 3

रूस की आम जनता सोवियत संघ और समाजवाद की ओर लौटना चाहती है। जिसका सीधा सा मतलब है, कि वह सिर्फ लेनिनग्राद की वापसी नहीं चाहती, उसे लेनिनवाद भी चाहिये। लेवाडा सेंण्टर द्वारा कराये गये सर्वेक्षण की रिपोर्ट यही है। ...

Read More »

वैश्विक मंदी के फिर से उभरते खतरे- 2

वैश्विक मंदी के फिर से उभरते खतरे- 2

अमेरिकी मंदी से शुरू हुए वैश्विक मंदी के समाप्ति की घोषणां कई बार की जा चुकी है, मगर उसके विस्तार को अब तक रोका नहीं जा सका है, ना ही संभलने की कोई संभावना बनती है। 2015 का आर्थिक विकास ...

Read More »

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 2

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 2

सोवियत संघ केे पतन की बाद की दुनिया यूरो-अमेरिकी साम्राज्यवाद की सूरत लगा कर वैश्विक ताकतों के मनमानी की दुनिया है, वैसे यह सूरत उनके पास पहले से थी, जिसका मकसद विश्व पर एकाधिकार है। जिसके लिये उन्हें बार-बार मार्क्सवाद और ...

Read More »

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 1

समाजवाद के वापसी का मुद्दा – 1

सोवियत संघ के पतन के बाद कुछ लोगों ने मान लिया था, कि मार्क्सवाद गुजरी हुई सदी की सोच है। लेनिनवाद की अब कोई पूछ नहीं। माओवाद के पांव के नीचे तो चीन की भी जमीन नहीं है। उन्होंने लातिनी अमेरिकी ...

Read More »

वैश्विक मंदी के फिर से उभरते खतरे – 1

वैश्विक मंदी के फिर से उभरते खतरे – 1

पूंजीवाद और उसकी बाजारवादी अर्थव्यवस्था अनिश्चयता के गहरे दलदल मे है। उसके पास ना तो वापस होने का विकल्प है, और ना ही आगे बढ़ने की कोई सूरत नजर आ रही है। वह जहां है, वहां ठहरने की कोई जगह ...

Read More »

युद्ध और आतंक की बढ़ती अनिवार्यता

युद्ध और आतंक की बढ़ती अनिवार्यता

मुक्त व्यापार और बाजारवादी अर्थव्यवस्था का व्यापक प्रभाव दुनिया की अर्थव्यवस्था पर पड़ा है। जहां गिरावट, आर्थिक अनिश्चयता और वित्तीय संकट है। जिससे लातिनी अमेरिकी एवं कैरेबियन देशों की वित्त व्यवस्था भी प्रभावित हुई है। वैश्विक वित्तीय संकट का सीधा ...

Read More »

वाॅलमार्ट की बंद होती दुकानें और बढ़ती बेरोजगारी

वाॅलमार्ट की बंद होती दुकानें और बढ़ती बेरोजगारी

‘इकोनाॅमिक पाॅलिसी इन्स्टीच्यूट‘ के द्वारा हाल ही में जारी किये गये अध्ययन के अनुसार- ‘‘अमेरिका के 4 लाख कामगरों के बेरोजगार होने का मुख्य कारण वाॅलमार्ट और चीन के बीच का व्यापार घाटा है। अपने काम से हाथ धोने वाले ...

Read More »

ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप को अमेरिकी स्वीकृति

ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप को अमेरिकी स्वीकृति

राष्ट्र के नाम अपने आखिरी सम्बोधन में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 12 जनवरी को, ‘ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप‘ के बारे में उसके पूरा होने के बारे में, जानकारी दी। ओबामा ने कहा- ‘‘संयुक्त राज्य अमेरिका ने ‘ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप‘ -मुक्त ...

Read More »
Scroll To Top