Category Archives: एशिया

Feed Subscription

सीरिया का संकट समाधान के कितने करीब?

सीरिया का संकट समाधान के कितने करीब?

सीरिया में रूस के हंस्तक्षेप से, पिछले चार सालों से जारी इस संकट के समाधान की संभावनायें बढ़ गयी हैं। यह लगने लगा है, कि सीरिया को इराक और लीबिया बनाने की यूरो-अमेरिकी मनमानी को रोका जा सकता है। यह ...

Read More »

चीन के बाजारवादी अर्थव्यवस्था की थकावट (आॅस्ट्रेलिया का वित्तीय संकट)

चीन के बाजारवादी अर्थव्यवस्था की थकावट (आॅस्ट्रेलिया का वित्तीय संकट)

पिछले दो दशक से चीन दुनिया के बाजारवादी आर्थिक विकास की पटरी पर दौड़ने वाली रेल में इंजन का काम किया। उस दौरान उसका अपना आर्थिक विकास दर 8 से 15 प्रतिशत के बीच था। उसने दुनिया के प्राकृतिक संसाधन ...

Read More »

वैश्विक वित्तीय संकट और चीन

वैश्विक वित्तीय संकट और चीन

जिस विश्वव्यापी मंदी की आशंकायें व्यक्त की जा रही थीं, वह अब दुनिया के बाजार में है। चारो ओर हड़कम्प मचा हुआ है। सभी अपनी अर्थव्यवस्था को बचाने, संकट से मिले मौके का फायदा उठाने और दुनिया की आम जनता ...

Read More »

भारत में चीन की कम्पनियों की उपस्थिति

भारत में चीन की कम्पनियों की उपस्थिति

भारत और चीन के रिश्ते को भारतीय मीडिया राजनीतिक नजरिये से देखती है। पश्चिमी मीडिया की तरह ही उसे आर्थिक एवं सामरिक प्रतिद्वंदी करार देती रही है। यह प्रमाणित करना ही उनका लक्ष्य होता है, कि चीन भारत के लिये ...

Read More »

ईरान समझौता – भूराजनीतिक संतुलन और वित्तीय संघर्षों का हिस्सा है

ईरान समझौता – भूराजनीतिक संतुलन और वित्तीय संघर्षों का हिस्सा है

यदि हम ईरान और अयातुल्ला खुमैनी को जानते हैं, यदि हम रूस, चीन और मध्य-पूर्व एशिया के देशों से ईरान के गहरे रिश्तों को जानते हैं, और यदि हम अमेरिका और यूरोपीय संघ के नेतृत्वकर्ता देशो को जानते हैं, तो ...

Read More »

भारत के महत्व को बढ़ाने की नीति

भारत के महत्व को बढ़ाने की नीति

सरकार समर्थक भारतीय मीडिया अमेरिका और यूरोपीय देशों से सम्बंधों और उनके वक्तव्यों को तरजीह देती है। उस पर इतराना भी उसे अच्छा लगता है। जहां मोदी जी सिर्फ इसलिये विशेष हैं, कि वो उनकी शर्तों पर देश की सूरत ...

Read More »

म्यांमार में भारत की सैन्य कार्यवाही

म्यांमार में भारत की सैन्य कार्यवाही

म्यांमार में घुस कर भारतीय सेना ने उग्रवादियों के विरूद्ध सैन्य कार्यवाही की। शायद पहली बार? नहीं। ऐसा पहले भी हुआ है, मगर इतना हल्ला नहीं मचाया गया। म्यांमार में स्थित भारत विरोधी उग्रवादियों के दो शिविरों को ध्वस्त किया ...

Read More »

चीन की वित्तीय एवं कूटनीतिक सफलता – एआईआईबी

चीन की वित्तीय एवं कूटनीतिक सफलता – एआईआईबी

चीन की योजनायें सतह पर आने के बाद ही सुर्खियां बनती हैं। इस बीच उसने वैश्विक स्तर पर कई महत्वपूर्ण योजनाओं की पहल की है, जिसकी सफलता वैकल्पिक वैश्विक व्यवस्था का निर्माण होगा। यह एकध्रुवी विश्व के विरूद्ध बहुध्रुवी विश्व ...

Read More »

एशिया में चीन का बढ़ता वर्चस्व

एशिया में चीन का बढ़ता वर्चस्व

एशिया में चीन के बढ़ते वर्चस्व से ओबामा सरकार की तरह ही भारत की मोदी सरकार भी चिंतित और परेशान है। उसकी परेशानी अतीत के अनुभवों और सीमा विवादों से ज्यादा अमेरिकी खेमें की चिन्ता और ‘चीन को भारत के ...

Read More »

विश्व का बदलता वित्तीय संतुलन

विश्व का बदलता वित्तीय संतुलन

‘‘एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेण्ट बैंक -एआईआईबी- की वजह से विश्व के वित्तीय संतुलन में परिवर्तन की नयी संभावनायें बन गयी हैं। यूरोप और अमेरिका के इर्द-गिर्द घूमती वैश्विक अर्थव्यवस्था अब चीन सहित एशिया में केंद्रित होती जा रही है। जिसका नेतृत्व ...

Read More »
Scroll To Top