Home / 2013 / January

Monthly Archives: January 2013

यूरोप का आम आदमी यूरोपीय संघ के खिलाफ है

यूरोप का आम आदमी यूरोपीय संघ के खिलाफ है

यूरोप का संकट रोज बढ़ रहा है। आर्थिक असमानता, राजनीतिक असंतोष और बिगड़ती हुर्इ सामाजिक सिथतियों में खत्म होती सुधार की उम्मीदों ने लोगों को हतास कर दिया है। सरकारें आम जनता का विश्वास खो दी हैं, और तमाम कोशिशों ...

Read More »

अफगानिस्तान के मादक पदार्थों पर अमेरिकी वर्चस्व

अफगानिस्तान के मादक पदार्थों पर अमेरिकी वर्चस्व

अफगानिस्तान में 4 लाख 60 हजार अफगान बेघरबार शरणार्थी हैं। अपने ही देश में शरणार्थियों की तरह जी रहे हैं। और दूसरे देशों में जहां भी वो हैं, उन पर या तो गहरी नजर रखी जाती है, या उन्हें वहां ...

Read More »

शांतिवार्ता के साथ बढ़ती सैन्य सक्रियता

शांतिवार्ता के साथ बढ़ती सैन्य सक्रियता

सीरिया को लेकर एक बड़े युद्ध का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। शांति की प्रक्रिया के बीच सैन्य सक्रियता बढ़ गयी है। हाल के दिनों में सीरिया और उत्तरी इराक में हो रहे परिवर्तन को देखते हुए 3000 से ...

Read More »

एशिया में जलते हुए मुददों के कर्इ अलाव हैं

एशिया में जलते हुए मुददों के कर्इ अलाव हैं

एशिया में सुलगते हुए मुददों के बीच नये समिकरण और नयी संभावनायें भी बन रही हैंं, जिन मुददों को लेकर साम्राज्यवादी शकितयां अपना वर्चस्व बढ़ाना चाहती हैं, उन्हीं मुददों ने, एशियायी देशों को नयी समझ दी है। यही कारण है, ...

Read More »

सहयोग एवं समर्थन की राजनीति

सहयोग एवं समर्थन की राजनीति

सहयोग एवं समर्थन की राजनीति, और सहयोग एवं समर्थन की अर्थव्यवस्था ने, लातिनी अमेरिकी देशों को एकसूत्र में बांधना शुरू कर दिया है। उनके राष्ट्रीय हित महाद्वीपीय हो गये हैं। आम जनता की सामाजिक सोच में भी परिवर्तन आया है, ...

Read More »

अमेरिकी बाज गिदद्धों में बदल गये हैं

अमेरिकी बाज गिदद्धों में बदल गये हैं

व्हार्इट हाउस, और अमेरिकी कांग्रेस के अलावा, अमेरिका की 1 प्रतिशत ऐसी आबादी, जिसके पास 95 प्रतिशत आम आमेरिकी की कुल सम्पतित से भी ज्यादा संपतित है। संयुक्त राज्य अमेरिका और उसकी संस्कृति को, अब तक के दुनिया की, सर्वश्रेष्ठ ...

Read More »

अफ्रीका को सैनिक छावनी में बदलने का अभियान

अफ्रीका को सैनिक छावनी में बदलने का अभियान

अफ्रीका के 35 से ज्यादा देशों के लिये पेण्टागन ने वर्ष 2013 के सैन्य कार्यक्रमों की घोषणा की है। उसने कहा है कि ”2013 में अफ्रीका के 35 से ज्यादा देशों में अमेरिकी सेना की ‘स्माल आर्मी टीम’ भेजी जायेगी, ...

Read More »

रूस पूर्व सोवियत संघ की ओर लौट रहा है?

रूस पूर्व सोवियत संघ की ओर लौट रहा है?

अमेरिका और रूस के बीच, दो दशक की चुप्पी और संबंधों को सामान्य बानाने की कोशिशें, फिर उलझने लगी हैं। सोवयित संघ के विघटन के बाद, शीतयुद्ध के समापित की घोषणा महज स्थगन प्रस्ताव था। अमेरिकी साम्राज्य ने जिसे अपने ...

Read More »

लडकियां ही पीढि़यों की गोद होती हैं

लडकियां ही पीढि़यों की गोद होती हैं

”भारत में शराब पीना बुरी बात है।” ”अमेरिका में?” ”राजनीतिक दलों के बारे में कहा जाता है कि ‘दो बोतल में एक ही शराब है।’ ” ”मतलब?” आप चाहे जिस बोतल की शराब पीयें, अमेरिका में कोर्इ बात नहीं, मगर ...

Read More »

क्या हम, तीसरे विश्वयुद्ध के मुहाने पर खड़े हैं? – 3

क्या हम, तीसरे विश्वयुद्ध के मुहाने पर खड़े हैं? – 3

विश्व परिदृश्य बदल गया है। एक ओर नवउदारवादी वैश्वीकरण है, जिनके पीछे एकाधिकारवादी शकितयां हैं। किंतु इन शकितयों के पीछे भी रूस और चीन जैसी एकाधिकारवादी शकितयां हैं। जो बहुध्र्रुवी विश्व की अवधारणा का साथ दे रहे हैं। दूसरी ओर ...

Read More »
Scroll To Top