Home / 2013 / December

Monthly Archives: December 2013

र्इरान का मुददा दुनिया के 6 बड़े देशों के बीच है

र्इरान का मुददा दुनिया के 6 बड़े देशों के बीच है

र्इरान का मुददा अमेरिका, यूरोपीय संघ और इस्त्राइल की हदों से बाहर निकल कर दुनिया के 6 बड़े देशों के बीच आ गया है, जिसमें अमेरिका, बि्रटेन, फ्रांस और जर्मनी ही नहीं रूस और चीन भी हैं। और यह बड़ी ...

Read More »

पतन के ढ़लान पर खड़ी यूरोपीय व्यवस्था

पतन के ढ़लान पर खड़ी यूरोपीय व्यवस्था

यूरोपीय संघ के 27 सदस्य देशों की अर्थव्यवस्था के संभलने की संभावनायें खत्म सी हो गयी हैं। इन देशों का क्या होगा? यह बताना मुशिकल है। यूरोपीय संघ का टूटना तो तय है, मगर उसके पीछे खड़ी वित्तीय ताकतों ने ...

Read More »

‘पिवोट टू एशिया’ एशिया में युद्ध का बढ़ता खतरा है

‘पिवोट टू एशिया’ एशिया में युद्ध का बढ़ता खतरा है

‘पिवोट टू एशिया’ अमेरिकी खतरे में बदल गया है, जिसके निशाने पर चीन है। जो एशिया में अमेरिकी वर्चस्व और दुनिया में अमेरिकी डालर की वरियता की राह में सबसे बड़ी बाधा बन गया है। और अमेरिका इस बाधा को ...

Read More »

अमेरिकी फेडरल रिजर्व के 100 साल

अमेरिकी फेडरल रिजर्व के 100 साल

100 साल पहले, 23 दिसम्बर 1913 को अमेरिकी फेड़रल रिजर्व की स्थापना हुर्इ थी, जो आज भी आम अमेरिकी और दुनिया के आम आदमी के लिये एक ऐसी पहेली है, जिसे हल नहीं किया जा सका है। वह एक शताब्दी ...

Read More »

अफ्रीका में अमेरिकी लोकतंत्र का धोखा

अफ्रीका में अमेरिकी लोकतंत्र का धोखा

अफ्रीका महाद्वीप को उपनिवेश बनाने वाली यूरोपीय ताकतों ने काले लोगों को आदमी न समझने की सोच पहले विकसित की। उनका शिकार किया, उन्हें गुलामों की मण्डी दी। उनके श्रम और सम्पदा को लूटने से पहले ही उन्होंने एक ऐसी ...

Read More »

देश का नागरिक होना मुझ पर भारी पड़ा

देश का नागरिक होना मुझ पर भारी पड़ा

महीने की शुरूआत मेरी बुरी हुर्इ, पहले सप्ताह में ही दिवाली आ गयी। और बराक ओबामा ने भारतीयों को दिपावली की बधार्इ भेज दी। बधार्इ संदेश ने मुझे हिला दिया, कि यदि सौगात भी साथ में हुआ तो क्या होगा? ...

Read More »

वेनेजुएला में अमेरिका के वित्तयी युद्ध के खिलाफ जारी संघर्ष!

वेनेजुएला में अमेरिका के वित्तयी युद्ध के खिलाफ जारी संघर्ष!

साम्राज्यवादी ताकतें जब वर्चस्व और एकाधिकार के लिये सामरिक घेराबंदी और आर्थिक हमलों में लगी हैं, लातिनी अमेरिका के समाजवादी देशों की सरकारें आम जनता के सामाजिक एवं आर्थिक अधिकारों की लड़ार्इयां अपने देश की प्रतिक्रियावादी ताकतों से लड़ रही ...

Read More »

मुक्त बाजारवाद के विरूद्ध निष्कासित समाजवाद की वापसी

मुक्त बाजारवाद के विरूद्ध निष्कासित समाजवाद की वापसी

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सोवियत संघ के कोमसोमोल जैसे संगठन की बात की है, जिसने सोवितय संघ के समाजवादी क्रांति और क्रांति के स्थायित्व के लिये प्रभावशाली भूमिका अदा की थी। कोमसोमोल को याद करना समाजवाद की ओर ...

Read More »

वित्तीय हमले के साथ सामरिक घेराबंदी

वित्तीय हमले के साथ सामरिक घेराबंदी

एशिया में चीन के लिये अमेरिकी नीति सामरिक घेराबंदी के साथ, वित्तीय हमले की है। वह एशिया और दुनिया में बढ़ते चीन के प्रभाव को रोकना चाहता है, जो कि वास्तव में उसके लिये न सिर्फ गंभीर चुनौती बन चुका ...

Read More »

सचिन तेन्दुलकर एक बड़ा गेम है

सचिन तेन्दुलकर एक बड़ा गेम है

सचिन तेन्दुलकर एक बड़ा गेम है। यह जा कर कहां ठहरेगा? हम नहीं जानते। भगवान तो उन्हें बनाया ही जा चुका है। इस बीच मीडिया ने उन्हें जितनी तरजीह दी, उनके बारे में जितना लिखा, कहा और उन्हें जितना दिखाया ...

Read More »
Scroll To Top