Home / 2014 / July

Monthly Archives: July 2014

धुंध और कोहरे को चीर कर, निकल रहे हैं कुछ लोग

धुंध और कोहरे को चीर कर, निकल रहे हैं कुछ लोग

सुबह जब होती है किसी से यह कहने की जरूरत नहीं पड़ती कि सुबह हो गयी है। लोग जानते और मानते हैं, कि धुंध और धुआं और घना कुहरा सुबह के होने को रोक नहीं सकते, आने वाले कल की ...

Read More »

बजट का रोडमैप – 3

बजट का रोडमैप – 3

देश की आम जनता महसूस तो कर रही है, मगर उसे बोलना नहीं आता। वह चाह कर भी बोल नहीं पाती। इसलिये यह मान लेना, कि उसे बोलना-बतियाना, नहीं आता उसके पास अपने भावों को व्यक्त करने की समझ नहीं ...

Read More »

बजट का रोडमैप – 2

बजट का रोडमैप – 2

आम बजट के जरिये बिछाये गये रोडमैप में नया कुछ खास नहीं है, पिछले दस सालों से यूपीए की मनमोहन सरकार जिस सड़क को बिछा रही थी, और बिछाने की योजना बना रही थी, एनडीए की नरेंद्र मोदी सरकार उस ...

Read More »

आर्थिक विकास के लिये बजट का ‘रोडमैप‘

आर्थिक विकास के लिये बजट का ‘रोडमैप‘

यदि आप मान लें, कि ‘निजीकरण आर्थिक विकास की सही दिशा है, और सामाजिक विकास से ज्यादा जरूरी है आर्थिक विकास‘, तो भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से असहमत होने की कोई वजह नहीं है। आप इत्मिनान से एक कोने ...

Read More »

वित्तीय ताकतों का वैश्वीकरण

वित्तीय ताकतों का वैश्वीकरण

राज्यों के नियंत्रण से बाहर होती वित्तीय पूंजी का विस्तार तेजी से हुआ है, भारत भी उससे बाहर नहीं है। ‘वल्र्ड वेल्थ’ के इस साल की रिपोर्ट के अनुसार – भारत में करोड़पतियों की संख्या 2012 में 1,53,000 थी, जो ...

Read More »
Scroll To Top