Home / 2014 / August

Monthly Archives: August 2014

कोल ब्लाॅक आवंटन के मामले में आया निर्णायक मोड़

कोल ब्लाॅक आवंटन के मामले में आया निर्णायक मोड़

कोल ब्लाॅक आबंटन के मामले में 25 अगस्त को नया मोड़ आ गया। सर्वोच्च न्यायालय ने 1993 से 2010 के बीच किये गये सभी आबंटनों को अवैध करार दिया है। 1 सितम्बर 2014 से आबंटन रद्द करने पर सुनवाई शुरू ...

Read More »

संसद में राजनीति सदाबहार झूठ है

संसद में राजनीति सदाबहार झूठ है

‘‘राजनीति में पतझड़ नहीं, बहारों का तबादला होता है। नमो आये तो ममो के बहारों का तबादला हो गया।‘‘ उन्होंने सुना और उनके चेहरे के दो टुकड़े हो गये। एक ने मुझे लानत भेजी, दूसरे ने तंज कसा- ‘‘यह ममो ...

Read More »

भारत में जेहादी ताकतों को बढ़ाने की नीति

भारत में जेहादी ताकतों को बढ़ाने की नीति

सभी प्रचार एवं दुष-प्रचार के बाद भी सच यह है, कि भारत में आतंकवाद की जड़ें जम नहीं सकी हैं। देश का आम आदमी धर्म एवं नस्ल के मामले में अपेक्षाकृत उदार है। अब तक विपरीत परिस्थितयों के बीच भी ...

Read More »

मेरी सूरत आपसे अलग नहीं!

मेरी सूरत आपसे अलग नहीं!

मैं नहीं जानता, मगर कुछ लोग कहते हैं, ‘‘बंदूक में आत्मा होती है।‘‘ जितना बड़ा हथियार होता है, उसमें उतनी ही बड़ी आत्मा होती है। आप सोच सकते हैं, कि ‘‘भला बंदूक में आत्मा कैसे हो सकती है?‘‘ मैंने भी ...

Read More »

गाजा – लातिनी अमरिकी देशों की कूटनीतिक एवं सहयोग की पहल

गाजा – लातिनी अमरिकी देशों की कूटनीतिक एवं सहयोग की पहल

गाजा पर हुए इस्त्राइली हमले और फिलिस्तीनियों की, की जा रही हत्या के विरूद्ध, दुनिया भर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों के साथ, लातिनी अमेरिकी देशों ने, आम फिलिस्तीनी और फिलिस्तीन के दावों के पक्ष में, अपनी ओर से गंभीर ...

Read More »

बंटवारे के बीच का राष्ट्रीय पर्व

बंटवारे के बीच का राष्ट्रीय पर्व

14 अगस्त और 15 अगस्त के बीच मैं सहज नहीं रह पाता लाशों से भरी एक रेल पटरियों पर भागती, दौड़ती रहती है, और एक चीख दबती-घुटती हुई मेरा पीछा कर रही होती है। मेरे भीतर एक जिंदा आदमी दशकों ...

Read More »

गाजापट्टी – लंदन में 1,50,000 लोगों का विरोध प्रदर्शन

गाजापट्टी – लंदन में 1,50,000 लोगों का विरोध प्रदर्शन

गाजा पट्टी पर हुए इस्त्राइली हमले और फिलिस्तीनियों की सुनियोजित हत्या का विरोध दुनिया भर में हो रहा है। विश्व समुदाय के ज्यादातर देश और विश्व जनमत इस मुद्दे पर एक साथ है, लेकिन न तो इस्त्राइली सरकार को इस ...

Read More »

गाजा से डाॅ. मेस गिल्बर्ट – ‘‘मि. ओबामा क्या आपके पास दिल है?’’

गाजा से डाॅ. मेस गिल्बर्ट – ‘‘मि. ओबामा क्या आपके पास दिल है?’’

डाॅ. मेस गिल्बर्ट ‘‘गाजा में जो हो रहा है, आप उसका समर्थन कैसे कर सकते हैं?‘‘ यह सवाल बराक ओबामा या उनके बेरहम दोस्तों से नहीं है, जिनके पास सेना और आतंकी हत्यारे हैं। उनसे यह सवाल हम नहीं कर ...

Read More »

जनतंत्र का विक्रम और जनतंत्र का वेताल

जनतंत्र का विक्रम और जनतंत्र का वेताल

दुनिया बड़ी बेढंगी है। जनतंत्र का विक्रम मानता नहीं और सच कहूं तो जनतंत्र का वेताल बड़ा पाजी है। वह विक्रम को पूरी बात बताता ही नहीं, कि ‘‘राजन, तुम जिस तिलस्म में फंस चुके हो, अब उससे बाहर निकलना ...

Read More »

नमो मंत्र की नारेबाजी!

नमो मंत्र की नारेबाजी!

सुबह हुई तो लगा- दिन अच्छा है। दोपहर होते-होते, भरम टूटने लगा। शाम को हम पस्त हुए। रात, जिनके पास बत्तियां थीं, उन्होंने जला लीं। जिनके पास बत्तियां नहीं थीं, उनके लिये बत्ती गुल ही रही। और जिनकी बत्ती गुल ...

Read More »
Scroll To Top