Home / 2015 / April

Monthly Archives: April 2015

सामाजिक वर्गों की पैदाईश और दूसरी कहानियां

सामाजिक वर्गों की पैदाईश और दूसरी कहानियां

‘चेहरों की भीड़‘ साहित्य के बारे में हमारी अपनी समझ और सम्बद्धता है। और हम मानते हैं कि हमारी समझ और सम्बद्धता हमारे हितों से जुड़ी होती है, हमारे वर्ग और हमारे सामाजिक हितों से! जिसमें उग्वे के ‘एदुआर्दो जालेआनो‘ ...

Read More »

मिस्त्र – पूर्व राष्ट्रपति मुर्सी को आजीवन कारावास

मिस्त्र – पूर्व राष्ट्रपति मुर्सी को आजीवन कारावास

जुलाई 2013 में, मिस्त्र के ट्रायल के बाद 20 साल की सजा दे दी गयी। मुर्सी पर दिसम्बर 2012 में राष्ट्रपति भवन के बाहर प्रदर्शनकारियों का दमन करने, उन्हें हिरासत में लेने और उन्हें यातना देने का आदेश देने का ...

Read More »

कुमार कृष्ण शर्मा की तीन कविताएँ

कुमार कृष्ण शर्मा की तीन कविताएँ

1. इस खतरनाक दौर में मुन्नी बदनाम हुई डार्लिंग तेरे लिये मैं झंडू बाम हुई डार्लिंग तेरे लिए आप सोच रहे हैं यह कैसी कविता… यह तो गाना है। इसे छोड़ो दूसरी कविता सुनाता हूँ माय नेम इज शीला शीला ...

Read More »

फ्रांस की निजी कम्पनियों को मोदी का ‘बेलआउट’

फ्रांस की निजी कम्पनियों को मोदी का ‘बेलआउट’

देश की सुरक्षा के मसले पर नरेन्द्र मोदी से सवाल होना चाहिए। किन्तु राष्ट्रीय स्तर पर लापरवाह खामोशी है, और संसद में सरकार और विपक्ष उन मुद्दों पर बहंस कर रही हैं, जिसे सरकार पहले ही तय कर चुकी है, ...

Read More »

अमेरिकी वर्चस्व का संकट

अमेरिकी वर्चस्व का संकट

ओबामा सरकार की गल्तियों का जिक्र होने लगा है। जो वास्तव में अमेरिकी सरकार की नाकामियां हैं, जिनकी सूरत बराक ओबामा बन गये हैं। ओबामा की जगह कोई डेमोक्रेट या रिपब्लिकन राष्ट्रपति होता, तब भी नाकामियों की सूरत कुछ ऐसी ...

Read More »

एशिया में चीन का बढ़ता वर्चस्व

एशिया में चीन का बढ़ता वर्चस्व

एशिया में चीन के बढ़ते वर्चस्व से ओबामा सरकार की तरह ही भारत की मोदी सरकार भी चिंतित और परेशान है। उसकी परेशानी अतीत के अनुभवों और सीमा विवादों से ज्यादा अमेरिकी खेमें की चिन्ता और ‘चीन को भारत के ...

Read More »

फरमाईशी संशोधन की खुली पेशकश

फरमाईशी संशोधन की खुली पेशकश

देश को बाजार बनाने की बेवकूफी भरी समझ से, केंद्र की सरकारें पिछले एक दशक से संचालित हो रही हैं। यही कारण है, कि पिछली सरकार की तरह ही मोदी सरकार जो भी कहती है, उसका अर्थ वह नहीं होता, ...

Read More »

माकपा – विशाखापत्तनम कांग्रेस

माकपा – विशाखापत्तनम कांग्रेस

भारतीय राजनीति में वामपंथी राजनीतिक दलों की एकजुटता का महत्व चाहे जितना भी हो, लेकिन देश की आम जनता के बीच यह सवाल नहीं है। जिसके लिये देश की आम जनता को दोष नहीं दिया जा सकता, जो दशकों से ...

Read More »

अनवर सुहैल की चार कविताएँ

अनवर सुहैल की चार कविताएँ

1. अम्मी अम्मी कभी-कभी कुछ भी बतियाना अच्छा नही लगता और चुप रहें तो दम घुटने सा लगता है वो समझ लेती थीं मेरे मन की बात और दुलार से फेरती थीं माथे पर हाथ तब ऐसा चटियल नही था ...

Read More »

वेनेजुएला में तख्तापलट और तख्तापलट की नाकामियां

वेनेजुएला में तख्तापलट और तख्तापलट की नाकामियां

11 अप्रैल 2002 को, वेनेजुएला के प्रतिक्रियावादी विपक्ष ने अमेरिकी सहयोग से राष्ट्रपति ह्यूगो शाॅवेज का तख्तापलट किया। तख्तापलट के विरोध में वेनेजुएला की आम जनता अपने घरों से, सेना अपनी छावनी से और जन मिलिशिया के हथियारबद्ध समर्थक काराकस ...

Read More »
Scroll To Top