Home / 2015 / May

Monthly Archives: May 2015

अन्याय की पहली सीख: एदुआर्दो गालेआनो

अन्याय की पहली सीख: एदुआर्दो गालेआनो

आज एदुआर्दो गालेआनो नहीं रहे। दुनिया में हर तरह के शोषण, गैरबराबरी और नाइंसाफी के खिलाफ लिखने-बोलने वाले इस बहादुर योद्धा पत्रकार और लेखक गालेआनो का एक और लेख। दुनिया जिस ढांचे पर चल रही है और इसके बारे में ...

Read More »

कोलम्बिया- अमेरिकी सेना का सेक्स दुराचार

कोलम्बिया- अमेरिकी सेना का सेक्स दुराचार

संयुक्त राज्य अमेरिका लातिनी अमेरिकी देशों में अपनी सैन्य उपस्थिति को मजबूत करने में लगा है, ताकि रूस और चीन के बढ़ते प्रभाव और पूरे महाद्वीप में फैलते अमेरिकी विरोध को रोका जा सके। उसकी नीतियां सैन्य दबाव को बढ़ाने ...

Read More »

अरुण श्री की छः कविताएँ

अरुण श्री की छः कविताएँ

1. मेरे विद्रोही शब्द नहीं सामंत ! सम्मोहित प्रजा का आँकड़ा बढ़ाती संख्या नहीं मैं । मेरा वैचारिक खुरदरापन – एक प्रखर विलोम है तुम्हारी जादुई भाषा का । पट्टे की कीमत पर पकवान के सपने बेचते हो तुम । ...

Read More »

जमीन के लिये संघर्ष हल और हथियार से बड़ी है – 2

जमीन के लिये संघर्ष हल और हथियार से बड़ी है – 2

सलवा जुडूम – 2 और अब….? सरकार ग्रामिणों से, किसानों और आदिवासियों से उनकी जमीन विकास के नाम पर, निजी कम्पनियों के लिये, छीनने की लड़ाई लड़ रही है, और योजना बना रही है। और बस्तर-दंतेवाड़ा के किसान-आदिवासी अपनी जमीन ...

Read More »

शरणार्थियों का संकट

शरणार्थियों का संकट

शरणार्थियों का संकट एशियायी और अफ्रीकी देशों के, यूरो-अमेरिकी लूट की योजना का परिणाम है। जिसे सरकारें हल करने के बजाये और भी बढ़ाने की योजना बना रही हैं। उस पर अमल कर रही हैं। उन्हें यूरोप तक पहुंचने से ...

Read More »

शैलेन्द्र की तीन कविताएं

शैलेन्द्र की तीन कविताएं

1. आवाज उनकी मिल गए कल रात अलाव तापते गले से लटकती लंबी माला लटकाए कुछ तलाशते कुछ निहारते धरती में धंसने को आतुर बाबा त्रिलोचन संग में दूसरा एक बूढ़ा ऊंचा थोड़ा कद-काठी में ताकते उनको कुछ बतियाता कुछ समझाता ...

Read More »

जमीन के लिये संघर्ष, हल और हथियारों से बड़ा मुद्दा है

जमीन के लिये संघर्ष, हल और हथियारों से बड़ा मुद्दा है

काॅरपोरेट की मोदी सरकार देश में ऐसा माहौल बनाने में लगी है, कि सरकार की नीतियों से असहमत लोग आर्थिक विकास के विरोधी हैं, वे समाज के सबसे कमजोर बहुसंख्यक वर्ग और श्रमजीवियों के विरोधी हैं। और, यह आर्थिक विकास ...

Read More »

चीन की यात्रा – संतुलन से निवेश की संभावनायें

चीन की यात्रा – संतुलन से निवेश की संभावनायें

मोदी की विदेश यात्रा ‘एक के साथ दो अतिरिक्त‘ के तहत, चीन के साथ मंगोलिया और दक्षिणी कोरिया की पूरी हुई। 20 मई को उनकी वापसी भी हो गई। यात्रा से पूर्व चीन के संदर्भ में चार मुद्दों को बड़ी ...

Read More »

सेल्फी इसी को कहते हैं भाई!

सेल्फी इसी को कहते हैं भाई!

मोदी जी पहले अपना पीठ थपथपाते हैं, फिर, फूले नहीं समाते हैं, और फिर अपना फोटो खींच लेते हैं, इसी को सेल्फी कहते हैं। कई सवाल और सवालों के जवाब मोदीनुमा होते हैं- अपना ढोल बजाते हुए। अपनी मुनादी करते ...

Read More »

अनुप्रिया की सात कविताएं

अनुप्रिया की सात कविताएं

1. अल्हड़ लड़कियाँ अल्हड़ लड़कियाँ बात -बात पर हँस देती हैं फिक्क से सड़क पर निकलते हुए घूरती जाती हैं सिनेमा के नये पोस्टर पूरी नींद कभी नहीं सोती अक्सर पुकार ली जाती हैं कई आवाज़ों में अल्हड़ लड़कियाँ पहनने ...

Read More »
Scroll To Top