Home / राष्ट्रीय परिदृश्य / मोदी जी हंस रहे हैं

मोदी जी हंस रहे हैं

यह बात

समझ से बाहर है अब तक

सरकारें बोलती हैं झूठ

हम समझते हैं सच

क्यों….?

क्यों का जवाब है हमारे सामने मगर हम उस जवाब से मिलना नहीं चाहते। मिल गया तो समझते नहीं। समझ गये तो, ‘‘कोये नृप होये हमें का हानि।‘‘ राजनीति बुरी चीज है, लेकिन राजनीति जो करते हैं, सरकार जो बनाते हैं, वो सम्मानित हैं, और उन्हीं के हाथों में हमारी गिरेबां है। वो ही हमारे होने, न होने को तय करते हैं, इतिहास बनाते और इतिहास बदलते हैं।

बेचारा इतिहास मूक दर्शक है।

झूठ बोलने वाली सरकार आज कल सच का पिटारा लिये घूम रही है। जिसमें आज और कल के बड़े-बड़े झूठ हैं।

‘सत्यमेव जयते‘ की लोगो वाली भारत सरकार का विज्ञापन कल छपा ‘संकल्प से सिद्धि‘ न्यू इण्डिया मोमेंट (2017-2022)

वैसे तो यह विज्ञापन है ‘भारत छोड़ो आंदोलन‘ की 75वीं वर्षगांठ का जिसमें गांधी जी और कई लोगों की परछाई है। और मोदी जी हैं, अपनी चमकती सी सूरत लिये। कांग्रेस कहीं नहीं है। जिसका यह कार्यक्रम था। जिक्र भी नहीं है। सरकार भाजपा की है। ‘सत्यमेव जयते‘ अब उसकी विरासत है। जिसका संकल्प भारत को कांग्रेस मुक्त करने का है। वह इतिहास को भी कांग्रेस मुक्त करना चाहती है। इसलिये स्वतंत्रता आंदोलन में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कहीं हो, न हो, अब ऐसी तस्वीरें आ रही हैं, जिसमें हॉफ पैंट, सफेद कमीज कहीं न कहीं है। भाजपा जिसकी उपज है। नेहरू नहीं हैं, वे लोग नहीं हैं, इतिहास के पन्नों में जो दर्ज हैं।

गनीमत है, यह लिखना मंजूर हुआ, कि ‘‘1942 में हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने संकल्प लिया था ‘भारत छोड़ो‘ का और 1947 में वह महान संकल्प सिद्ध हुआ, भारत स्वतंत्र हुआ।‘‘

अब भाजपा का संकल्प है 2022 तक नये भारत के निर्माण का।

मतलब, 2019 का आम चुनाव नये भारत के निर्माण के नाम। इस संकल्प में ‘हम सब मिल कर‘ का जुमला भी है।

इस जुमले के साथ संकल्प है-

स्वच्छ भारत का।

गरीबी मुक्त भारत का।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत का।

आतंकवाद मुक्त भारत का।

साम्राज्यवाद मुक्त भारत का।

जातिवाद मुक्त भारत का।

स्वच्छ भारत का निर्माण – भाजपायी नेता, सेलिब्रिटी और ब्राण्ड एम्बेस्डर करेंगे। टैक्स हम देंगे।

गरीबी मुक्त भारत का निर्माण- विश्व बैंक और निजी कम्पनियां करेंगी। जो गरीबी की वजह है।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण- राजनेता और निजी कम्पनियां करेंगी। जिनकी वजह से भ्रष्टाचार है।

आतंकवाद मुक्त भारत का निर्माण- राज्य की आतंकी सरकार और आतंक का पर्याय बने देश करेंगे।

साम्राज्यवाद मुक्त भारत का निर्माण- अमेरिकी साम्राज्यवाद करेगा।

सम्प्रदाय मुक्त भारत का निर्माण- संघ और हिंदूवादी संगठन करेंगे।

जातिवाद मुक्त भारत का निर्माण- हिंदू राष्ट्रवादी करेंगे। जिन्होंने गायों के लिये दहशत फैला कर रखा है।

नये भारत का निर्माण वो लोग करेंगे, वह सरकार करेगी, जिन्होंने 2014 में दिल्ली के लाल किला से निजी कम्पनियों के लिये रेड कार्पेट बिछाने की घोषणां की, और कार्पेट तेजी से बिछ रहा है। देश बिक रहा है, लोग बिक रहे हैं, उनकी सम्पदा बिक रही है।

मोदी जी हंस रहे हैं। हमें भी हंसी आ रही है। हम कितने बेवकूफ हैं?

-आलोकवर्द्धन

Print Friendly

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Select language:
Hindi
English
Scroll To Top