मीडिया के कंधों पर उचकता फासीवाद

मीडिया के कंधों पर उचकता फासीवाद

हम आज कौन से अन्धकार के युग में जीने के लिए अभिशप्त हो गए हैं? यह कौन सी पत्रकारिता हम देख रहे हैं जो पूरे समाज में जहर घोलने पर आमादा है? ऐसा लगता है कि अर्नब गोस्वामी जैसे उद्दंड, ...

Read More »

वामपंथियों के विरूद्ध संवैधानिक राष्ट्रवाद

वामपंथियों के विरूद्ध संवैधानिक राष्ट्रवाद

देश की मोदी सरकार को हर बात की जल्दी है। उसकी हरकतें या तो पैरोल में छूटे अपराधियों की तरह है, या उन लोगों की तरह है, जिनके सामने सत्ता मे बने रहने की शर्ते हैं। वह शर्तो की बाधा ...

Read More »

भारत माता की, जय और वंदेमातरम् ने हमें डरा दिया

भारत माता की, जय और वंदेमातरम् ने हमें डरा दिया

17 फरवरी 2016 नयी दिल्ली। पटियाला हाउस कोर्ट। बाहर और भीतर। जहां जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को ‘देशद्रोह‘ के आरोप के तहत पेश किया गया। उन्हें 14 दिन के न्यायिक हिरासत में, तिहाड़ जेल भेज दिया गया। यदि ...

Read More »

राज्य के वर्चस्व की पुर्नस्थापना का सवाल

राज्य के वर्चस्व की पुर्नस्थापना का सवाल

सोच की स्तर पर समाजवाद पूंजीवाद का विकल्प और समाज के विकास की उच्च अवस्था है। होना भी यही चाहिये। किंतु, संकट और संक्रमण के इस दौर में, -जब वैश्विक वित्तीय ताकतों ने निर्णायक बढ़त हासिल कर ली है, और ...

Read More »

दिल्ली का एक दिन, चंद घंटे

दिल्ली का एक दिन, चंद घंटे

दिल्ली का एक दिन, चंद घंटे! दिन सोमवार, 15 फरवरी 2016 घण्टों का हिसाब मैं नहीं दे पाऊंगा, बस मेरे पास वारदातें हैं, वह भी सुनी हुई, चैनलों पर देखी हुई और सोशल मीडिया पर हो रही चर्चाओं से जानी ...

Read More »

वाॅलमार्ट की बंद होती दुकानें और बढ़ती बेरोजगारी

वाॅलमार्ट की बंद होती दुकानें और बढ़ती बेरोजगारी

‘इकोनाॅमिक पाॅलिसी इन्स्टीच्यूट‘ के द्वारा हाल ही में जारी किये गये अध्ययन के अनुसार- ‘‘अमेरिका के 4 लाख कामगरों के बेरोजगार होने का मुख्य कारण वाॅलमार्ट और चीन के बीच का व्यापार घाटा है। अपने काम से हाथ धोने वाले ...

Read More »

जेएनयू गंभीर चेतावनी है

जेएनयू गंभीर चेतावनी है

यह देश है। यह देशद्रोह है। और यह आतंकवाद है। चलिये मान लेते हैं। बस, आप हमें बतायें यह तय कौन करता है, कि यह देश है, यह देशद्रोह है, और यह आतंकवाद है। मानी हुई बात है, कि आम ...

Read More »

नित्यानंद गायेन की चार कविताएं

नित्यानंद गायेन की चार कविताएं

1. अगले वर्ष अगले फिर निकलेगी झांकी राजपथ पर भारत भाग्य विधाता लेंगे सलामी डिब्बों में सजाकर परोसे जाएंगे विकास के आंकड़े शहीदों की विधवाओं को पदक थमाएं जाएंगे राष्ट्र अध्यक्षों के शूट की चमक और बढ़ जाएगी जलती रहेगी ...

Read More »

ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप को अमेरिकी स्वीकृति

ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप को अमेरिकी स्वीकृति

राष्ट्र के नाम अपने आखिरी सम्बोधन में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 12 जनवरी को, ‘ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप‘ के बारे में उसके पूरा होने के बारे में, जानकारी दी। ओबामा ने कहा- ‘‘संयुक्त राज्य अमेरिका ने ‘ट्रांस पैसेफिक पार्टनरशिप‘ -मुक्त ...

Read More »

पिवोट टू एशिया के बाद पिवोट टू लैटिन अमेरिका – 2

पिवोट टू एशिया के बाद पिवोट टू लैटिन अमेरिका – 2

अमेरिकी साम्राज्य अपने डाॅलर और अपनी सामरिक क्षमता पर टिका हुआ है। माॅर्गन ने ‘पिवोट टू लैटिन अमेरिका‘ के पक्ष में अपने निष्कर्षों को सामरिक आधार भी दिया है। वो मानते हैं, कि लातिनी अमेरिकी देशों में चीन की मौजूदगी, ...

Read More »
Scroll To Top