पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 3

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 3

(इस आलेख के लिये हमने मई दिवस को आधार बनाया था, किंतु लगा इतिहास को दुहराने से अच्छा है, जहां उसे रोका गया है, वहां से धक्का दें। उन ताकतों की पहचान जरूरी है, जिन्होंने इतिहास को रोका है।) हम ...

Read More »

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 2

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 2

(इस आलेख के लिये हमने मई दिवस को आधार बनाया था, किंतु लगा इतिहास को दुहराने से अच्छा है, जहां उसे रोका गया है, वहां से धक्का दें। उन ताकतों की पहचान जरूरी है, जिन्होंने इतिहास को रोका है।) ‘‘हम ...

Read More »

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा

(इस आलेख के लिये हमने मई दिवस को आधार बनाया था, किंतु लगा इतिहास को दुहराने से अच्छा है, जहां उसे रोका गया है, वहां से धक्का दें। उन ताकतों की पहचान जरूरी है, जिन्होंने इतिहास को रोका है।) हम ...

Read More »

सपाट बनाने का कारखाना

सपाट बनाने का कारखाना

कई बार जिंदगी बड़ी सपाट सी लगने लगती है, जो कि है नहीं। सुबह, दोपहर, शाम और रात। यही सिलसिला। दिन का सिलसिलेवार तरीके से बीतना। रात का ऐसा गुजरना जैसे गाफिलों की नींद। बुरा लगता है, कि जो है ...

Read More »

आर्थिक एवं राजनीतिक विकास की गलत दिशा

आर्थिक एवं राजनीतिक विकास की गलत दिशा

केन्द्र में मोदी की सरकार है और भारत के 13 राज्यों में भाजपा की सरकारें बन चुकी हैं। कह सकते हैं, कि उसके कब्जे में देश की बड़ी आबादी है। सही अर्थों में भाजपा पूरे देश पर अपना अधिकार चाहती ...

Read More »

[मई दिवस पर विशेष] हंथौड़ा लोहा बन गया

[मई दिवस पर विशेष] हंथौड़ा लोहा बन गया

सैकड़ों बाहों के साथ उठी हमारी बाहें और एक मजबूत हंथौड़ा जंग लगे लोहे पर गिरा धड़ाम से। जबर्दस्त शोर हुआ पपड़ियां उधड़ीं बुनियादें हिलीं और एक बड़ी धरती कांप गयी। गला फाड़ कर चिल्लाया लोहा लौह व्यवस्था के खूनी ...

Read More »

सामाजिक विकास की उल्टी दिशा

सामाजिक विकास की उल्टी दिशा

समाज में बुद्धिजीवियों की क्या कोई जगह है? इस सवाल से आप टकरा कर देखें, होश उड़ जायेंगे। भारत में यह वर्ग दशकों से नहीं, बल्कि सदियों से विभाजित है। और यह विभाजन स्वाभाविक है। समाज यदि बंटा हुआ है, ...

Read More »

बिना लाल बत्ति की सरकार

बिना लाल बत्ति की सरकार

लाल बत्ती के दिन लद गये। यह अच्छी बात है, मगर इसमें ऐतिहासिक क्या है? क्या आप बता सकने के लायक हैं? कैबिनेट ने निर्णय लिया, प्रस्ताव पीएम साहब का था। बत्तियां गुल हो गयीं। तमाम भेंड़ दिखा-दिखा कर बत्तियां ...

Read More »

मोदी को ब्राण्ड समझना गलत नहीं

मोदी को ब्राण्ड समझना गलत नहीं

मोदी को एक ब्राण्ड समझना गलत नहीं है। वो देश को ब्राण्ड बना रहे हैं। देशभक्ति की ब्राण्डिंग कर रहे हैं, और देशद्रोह की भी। जिसे आने वाले कल में तब समझा जाएगा, जब हम देश की दुर्दशा की बात ...

Read More »

सीरिया को बचाने की लड़ाई

सीरिया को बचाने की लड़ाई

सीरिया को बचाने की लड़ाई विश्व समुदाय को लड़नी ही चाहिए, क्योंकि जिन आधारहीन आरोपों के तहत सीरिया पर अमेरिकी हमले की शुरूआत हो गयी है, वह सीरिया को इराक और लीबिया बनाने की नयी पहल है। जिसमें यूरोपीय देश ...

Read More »
Scroll To Top