अवशेषों का खतरा

अवशेषों का खतरा

प्रतिक्रियावादी ताकतें किसी की नहीं होतीं, जिनका वो उपयोग करती हैं, उनकी भी नहीं। सत्तारूढ़ होने के बाद तोड़-फोड़ ही उनके काल की विशेषता होती है। इतिहास से लेकर आने वाले कल को वो ऐसे अवशेषों से भर देती हैं, ...

Read More »

सेंटपीटर्सबर्ग में मोदी का खुला आमंत्रण

सेंटपीटर्सबर्ग में मोदी का खुला आमंत्रण

‘सेंटपीटर्सबर्ग इण्टरनेशनल इकोनॉमिक फोरम‘ में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस देश को लूटने का खुला प्रस्ताव रखा। कृषि, उद्योग, सुरक्षा से लेकर सेवा क्षेत्रों में निवेश के लिये विश्व कारोबारियों को आमंत्रित किया। ‘‘भारत एक बड़ा बाजार है। ...

Read More »

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 4

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 4

कोलम्बिया के राष्ट्रपति का यह कहना कि ‘‘समाज को हथियारबद्ध करना खतरनाक है‘‘, यदि सही है, तो ‘‘सरकारों का हथियारबद्ध होना उससे कहीं बड़ा खतरा है।‘‘ क्योकि सरकारें ही हथियारों का उत्पादन करती हैं, हथियारों का कारोबार करती हैं, हथियारों ...

Read More »

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 3

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 3

यह बात अपने आप में महत्वपूर्ण है कि विश्व की अर्थव्यवस्था संकट ग्रस्त हैं, किंतु सरकारें हथियारों की खरीदी-बिक्री और हथियारों के उत्पादन को लगातार बढ़ा रही है। एक ऐसी अर्थव्यवस्था को बनाये रखने की लड़ाईयां लड़ रही हैं, जिस ...

Read More »

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 2

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 2

संयुक्त राज्य अमेरिका सबसे बड़ा हथियार उत्पादक देश और हथियारों पर सबसे बड़ा खर्च करने वाला देश है, जिस पर 20 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा का बढ़ता हुआ कर्ज है। पिछले साल 2016 में 611 बिलियन डॉलर उसने इस मद ...

Read More »

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 1

हथियारों पर बढ़ती निर्भरता – 1

हथियारों की निगरानी में दुनिया को सुरक्षित रखने की कोशिश हो रही है। दावे किये जा रहे हैं, कि ‘दुनिया बची रहेगी।‘ इस दावे का कोई आधार नहीं है। किसी के पास इस सवाल का कोई जवाब नही है, कि ...

Read More »

गाय एक पॉवरफुल प्राणी है

गाय एक पॉवरफुल प्राणी है

पहले बड़े-बड़े लेखकों और कवियों की पंक्तियां दे दी जाती थीं, और कहा जाता था- संदर्भ के साथ व्याख्या कीजिये। अब बड़े-बड़े बिकाऊ लेखक और कवि पैदा होते हैं, जिनकी पंक्तियां ऐसी होती है, कि संदर्भ के साथ व्याख्या की ...

Read More »

मोदी सरकार की करिश्माई उपलब्धि – हम गदहे हैं!

मोदी सरकार की करिश्माई उपलब्धि – हम गदहे हैं!

देश में भांट, गवईया और कथावाचकों की पूछ बढ़ गयी है। वर्ष हिंदू हो गये हैं। देवी-देवता जागृत हो गये हैं। गाय माता हो गयी है। स्वयं सेवक गणों की पहुंच बढ गयी है। राम मर्यादा पुरूषोत्तम नहीं रहे। अशोक ...

Read More »

भ्रष्ट व्यवस्था के प्यादे और सरकार

भ्रष्ट व्यवस्था के प्यादे और सरकार

आयकर विभाग और सीबीआई की सक्रियता बढ़ गयी है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और कांग्रेस के पी, चिदंबरम के बेटे के खिलाफ छापेमारी चल रही है। खुलासे हो रहे हैं। खुलासे होंगे। कहा जा रहा है, कि सरकार भ्रष्टाचार ...

Read More »

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 3

पूंजीवाद – सदियों का हत्यारा – 3

(इस आलेख के लिये हमने मई दिवस को आधार बनाया था, किंतु लगा इतिहास को दुहराने से अच्छा है, जहां उसे रोका गया है, वहां से धक्का दें। उन ताकतों की पहचान जरूरी है, जिन्होंने इतिहास को रोका है।) हम ...

Read More »
Scroll To Top